देखें: बच्चों पर विशेष सिटिजन जर्नलिस्ट।

देखें: बच्चों पर विशेष सिटिजन जर्नलिस्ट।Video

देश के भविष्य माने जाने वाले सैकड़ों मासूम बच्चों की स्थिति बेहद दयनीय है। जिस उम्र में बच्चों को स्कूल जाना चाहिए। गरीबी के कारण ये बच्चे नशे का शिकार हो जाते हैं और अपनी जरूरतें पूरी करने के लिए चोरी जैसे संगीन अपराध करने से भी गुरेज नहीं करते। देखिए बच्चों पर विशेष सिटिजन जर्नलिस्ट।

देखें: 2014 के बेस्ट सीजे रिपोर्ट Video

2014 खत्म हो चुका है। बीते साल में सीजे के जरिए कई लोगों ने अपनी आवाज उठाई। देश के अलग-अलग इलाकों से कई रिपोर्ट सीजे के माध्यम से लोगों के सामने रखे गए। महिला सुरक्षा की बात हो या देश में बढ़ता भ्रष्टाचार, लोगों ने हर मोर्चे पर अपनी आवाज बुलंद की। यहां तक कि धरती के जन्नत कश्मीर में बाढ़ से हुई तबाही का ताजा हाल लोगों ने बताया।

देखें: निर्भया कांड पर विशेष सिटिजन जर्नलिस्ट Video

साल पहले निर्भया के साथ जो घिनौना काम हुआ क्या उसके बाद हमारा देश सुधरा है। कहा गया कि अब कड़ा कानून बन गया है। अब ऐसे कुकृत्य बंद हो जाएंगे। लेकिन क्या ऐसा हुआ है? क्या अब महिलाओं को लेकर किए जाने वाले अपराधों में कमी आई है?

देखें: भोपाल गैस त्रासदी के 30 साल पर सीजे विशेष Video

2 और 3 दिसंबर की रात दुनिया की सबसे बड़ी औधोगिक त्रासदी, भोपाल गैस त्रासदी को पूरे 30 साल हो गए हैं। इस भीषण त्रासदी को 30 साल हो गए हैं, लेकिन तबाही के निशान आज भी बाकी हैं।

सीजे: देश की खस्ताहाल स्वास्थ्य सेवा पर विशेष Video

देश में हजारों लोग ऐसे हैं जिन्हें डॉक्टर और अस्पताल तक नसीब है। लोग सुविधा के अभाव में आए दिन दम तोड़ देते हैं। कुछ अस्पताल के हालात तो इतने बदतर हैं कि यहां स्वस्थ आदमी भी जाकर बीमार पड़ जाए। छत्तीसगढ़ में नसबंदी के दौरान 13 महिलाओं की मौत हमारे देश की खस्ताहाल स्वास्थ्य व्यवस्था का बड़ा उदाहरण है।

देखें: बाल दिवस पर विशेष सीजे Video

देश की राजधानी दिल्ली में सैकड़ों बच्चे ऐसे हैं जो कुपोषण की वजह से दम तोड़ रहे हैं। यहां बच्चों को पौष्टिक खाना तो दूर दो वक्त की सूखी रोटी मिलना भी मुश्किल है। इन बच्चों लिए खाने का मतलब है सिर्फ रोटी। वहीं बीमार पड़ने पर सरकारी अस्पताल में इनका इलाज भी नहीं हो पाता।

देखें: बिल्डरों की मनमानी पर विशेष सीजे Video

नोएडा में आशियाने का सपना लिए लाखों ने अपने जिंदगी की सारी पूंजी फ्लैट खरीदने में लगा दी। लोगों को 3 साल में घर देने का वादा किया था, लेकिन 5 साल बीत चुके हैं और अब भी लोगों को घर मिलने की संभावना दूर-दूर तक नहीं दिख रही है।

देखें: सिटीजन जर्नलिस्ट का फॉलोअप स्पेशल Video

आईबीएन7 के खास शो सिटीजन जर्नलिस्ट में इस बार देखिए फॉलोअप स्पेशल। एसिड अटैक का शिकार बनी बेटी को इंसाफ दिलाने के लिए पिता के संघर्ष की कहानी, मशहूर नृत्यांगना तारा बालगोपाल की बेबसी में मदद के लिए सामने आए लोग, राजनांदगांव के एक स्कूल की दुर्दशा की रिपोर्ट के असर व और भी बहुत कुछ। वीडियो देखें

सीजे: अपनी बच्ची के लिए मां के संघर्ष की कहानी Video

त्विशा मकवाना किसी भी आम बच्ची की तरह ही लगती है, लेकिन उसकी लाइफ का हर दिन खास है। तीन साल की त्विशा को जन्म से ही एलजीओए नाम की समस्या है। इसका मतलब है कि त्विशा के शरीर में एसोफैगस यानी मुंह से पेट को जोड़ने वाली नली अधूरी है।

और खबरें

जो आप कर सकते हैं

आपका संघर्ष

अगर आप भ्रष्टाचार व प्रशासनिक ढीलेपन के खिलाफ लड़ रहे हैं तो आईबीएन-7 आपकी मदद करेगा।

अपना शहर बचाएं

स्थानीय लोग अगर सड़कों, शराब की दुकानों से परेशान हैं तो आईबीएन-7 उनकी समस्याएं उठाएगा।

युवाओं की आवाज

देश के युवाओं को आगे आकर अपने मुद्दों पर संघर्ष करने के लिए आमंत्रण।

हरियाली के रक्षक

हरियाली बढ़ाने के लिए किए गए एक छोटे से प्रयास से आप ग्रीन सीजे बन सकते हैं।

हमारे बारे में | विज्ञापन | शिकायत निपटारा | RSS

कॉपीराइट IBN7 खबर। सर्वाधिकार सुरक्षित